Friday, June 11, 2021
Homeमोटिवेशनल स्टोरीज90 साल की उम्र में अम्मा ने शुरू किया बिजनेस, विदेशों से...

90 साल की उम्र में अम्मा ने शुरू किया बिजनेस, विदेशों से आ रहे हैं आर्डर, हो रही है खूब कमाई

कहते हैं कि यदि आपके भीतर कुछ करने का जज्बा हो तो फिर कोई भी रूकावट आपके बीच नहीं आ सकती। 90 साल की अम्मा ने अपने हौंसले और हिम्मत से यह साबित कर दिखाया है।

असम। किसी भी शख्स में यदि कुछ करने का जज्बा हो तो फिर कोई भी समस्या अधिक दिनों तक उसके सामने टिक नहीं सकती। आपकी सफलता में उम्र भी रूकावट नहीं बन सकती। ऐसी ही एक कहानी है 90 साल की अम्मा लतिका शर्मा (Latika Sharma) की, जिन्होंने अपने दम पर उम्र के इस पड़ाव पर आकर देश और दुनिया में अपना नाम कमा लिया है। उन्हें कई देशों में उनके गजब के हौंसले और हुनर के लिए जाना जाता है। लोग उनके इस अदभुत जज्बे की मिसाल भी देते हैं और उनसे प्रेरणा भी लेते हैं।

latika Sharma
कैप्शन: लतिका शर्मा के बैग पसंद करते हैं लोग

इस उम्र में खड़ा कर लिया बिजनेस

लतिका शर्मा ने सफल तरीके से अपना खुद का बिजेनस (Business) खड़ा कर लिया है और आज वह दुनिया भर में अपने बिजनेस के चलते सुर्खियों में हैं। अम्मा ने 2 साल पहले एक पुरानी मशीन खरीदकर अपने बिजनेस की शुरूआत की थी। जिसके बाद उन्होंने पीछे मुडकर नहीं देखा। लतिका शर्मा अपने परिवार के साथ असम के दुबरी (Dhubri Assam)  में रहती हैं। लोगों को उनके बनाए प्रोडेक्ट देखकर बहुत खुशी होती है। इसलिए उनके बनाए प्रोडेक्ट पहले से ही बुकिंग के जरिए बिक जाते हैं। फिलहाल अम्मा ने इस बिजनेस से अपनी खुद की पहचान बना ली है।

पहले बच्चों को पहनाती थीं कपड़े

90 साल की अम्मा लतिका शर्मा को शुरू से ही सिलाई कढ़ाई का बहुत क्रेज था। उनके बच्चे जब छोटे थे, तब वह अपने हाथों से ही बनाए कपड़े उन्हें पहनाती थी। बच्चे बड़े हुए तो उन्होंने सिलाई के कपड़े पहनने छोड़ दिए। तब भी उन्होंने सिलाई कढ़ाई का अपना काम नहीं छोड़ा और वह अपने हाथों से ऐसी चीजें बनाने लगी, जोकि गिफ्ट के तौर पर रिश्तेदारों को दिए जा सकें। लतिका अपने हाथों से बनाए बैग और खिलौने (Bag and Toys) लोगों को गिफ्ट दिया करती थीं। करीब दो साल पहले उनकी बहू ने सुझाव दिया कि क्यों ना पोटली बैग (Potli Bag) बनाने की शुरूआत की जाए, जिन्हें बेचने का काम शुरू किया जा सकता है।

अम्मा को पसंद आया बहू का सुझाव

लतिका जी को अपनी बहू का यह सुझाव बहुत पसंद आया। दोनों ने मिलकर बैग बनाने की शुरूआत कर दी। हालांकि उनका यह बिजनेस तो शुरू हो गया, मगर उसके लिए बाजार भी चाहिए था। बैग बनाने के बाद अब उन्हें बेचने की समस्या आ गई। तब लतिका जी के बेटे ने एक वेबसाईट बनवाई और उसके जरिए बिजनेस शुरू कर दिया गया। इस प्लेटफार्म के बाद लतिका शर्मा के पास बैग के आर्डर आने लगे। यह बिजनेस धीरे धीरे अपनी पहचान बनाने लगा और कुछ दिनों बाद उनके पास आर्डर की लाईन लगने लगी।

सर्वे ऑफ इंडिया में थे पति

बता दें कि लतिका जी के पति केंद्र सरकार के अधीन सर्वे ऑफ इंडिया में कार्यरत थे। जिसकी वजह से उनके अनेक शहरों में तबादले होते रहते। लतिका शर्मा ने इसका भरपूर फायदा उठाया और अपने सीखने की चाहत की वजह से उन्होंने अलग अलग शहरों के डिजाइन भी सीख लिए। जिसका उन्हें अपने बिजनेस में खूब फायदा भी मिला। वह बैग बनाने में अपने पुराने कपड़े और साडिय़ों का इस्तेमाल करती हैं। इस काम में वह अब अपनी बहू का सहयोग भी लेती हैं।

दस डॉलर में बेचती हैं एक बैग

लतिका जी बताती हैं कि उन्हें एक बैग बनाने में काफी समय लगता है। इसलिए उन्होंने इसकी कीमत कुछ अधिक रखी है। वह एक बैग करीब 10 डॉलर का बेचती हैं। फिलहाल उनके पास आर्डर की कोई कमी नहीं है। ऑनलाईन प्लेटफार्म के जरिए वह अपने बैग जर्मनी से लेकर ओमान और न्यूजीलैंड तक भी बेचती हैं। उनके हाथ से बनाए बैग अपने ही देश में नहीं बल्कि विदेशों में भी काफी पसंद किए जा रहे हैं।

Stay Connected

259,756FansLike
345,788FollowersFollow
223,456FollowersFollow
33,456FollowersFollow
566,788SubscribersSubscribe

Must Read

Related News