Friday, June 11, 2021
Homeमोटिवेशनल स्टोरीजस्लम के बच्चों को स्कूल तक लाने में आईएएस ने निभाई अहम...

स्लम के बच्चों को स्कूल तक लाने में आईएएस ने निभाई अहम भूमिका, सोशल मीडिया के दुष्प्रचार पर लगाई रोक

सिविल सर्विस पास करने वाले अधिकतर कैंडिडे्ट का सामना सबसे पहले चुनौतियों से होता है। ऐसा ही कुछ सामना केरल के डीएम मोहम्मद अली का हुआ।

केरल के कन्नूर जिले में डीएम मोहम्मद अली ने पांच माह में ही अपने जिले को प्लास्टिक फ्री बना दिया। इसके लिए उन्हें कड़ी चुनौतियों का सामना करना पड़ा। लेकिन उन्होंने बिल्कुल भी हार नहीं मानी। साल 2017 में कन्नूर ऐसा पहला जिला बन गया, जो पूरी तरह से प्लास्टिक फ्री हुआ। अपने इस कारनामे की वजह से मोहम्मद अली लोगों के बीच में काफी फेमस हो गए।

तमिलनाडू में हुआ जन्म
मीर मोहम्मद अली का जन्म 19 फरवरी साल 1987 को हुआ। उन्होंने साल 2008 में बीएस क्रीसेंट इंजीनियरिंग कालेज से ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल की। मोहम्मद अली बीई इलेक्ट्रोनिक्स एंड कम्यूनिकेशन की डिग्री हासिल की।

यूपीएससी की तैयारी के लिए आ गए दिल्ली
मोहम्मद अली यूपीएससी की तैयारी के लिए दिल्ली आ गए। यहां पर आकर उन्होंने राजनीति शास्त्र से एमए किया। साल 2010 में अली ने दूसरे प्रयास में यूपीएससी की परीक्षा पास की। अली का दूसरे प्रयास में 59वां रैंक हासिल हुआ। यूपीएससी की परीक्षा के बाद केरल के कंजीखोड जिले में अस्टिटेंट कलेक्टर के पद पर नियुक्त हुए। साल 2013 में वह थ्रिसूर जिले में सबकलेक्टर के पद पर नियुक्त हुए। इसके बाद कन्नूर जिले में डीएम के पद नियुक्त हुए।

स्लम के बच्चों को स्कूल तक लाकर पेश की मिशाल
मोहम्मद अली से शहर को पूरी तरह से प्लास्टिक मुक्त करने के अलावा स्लम के बच्चों को स्कूल तक लाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। कन्नूर जिले में लोग अपने बच्चों को स्कूल नहीं भेजते थे। मोहम्मद अली ने बच्चों के अभिभावकों को जागरूक किया। इसके बाद कई बच्चे स्कूल जाने लगे। वहीं मोहम्मद अली ने सोशल मीडिया पर फैलने वाले दुष्प्रचार को लेकर भी काम किया। उन्होंने स्कूली बच्चों को भी इसके खिलाफ जागरूक किया।

Stay Connected

259,756FansLike
345,788FollowersFollow
223,456FollowersFollow
33,456FollowersFollow
566,788SubscribersSubscribe

Must Read

Related News