Friday, June 11, 2021
Homeनेशनल न्यूज़खाकी ने फिर दिखाया अपना मानवीय चेहरा, दिल्ली से 1500 किलोमीटर दूर...

खाकी ने फिर दिखाया अपना मानवीय चेहरा, दिल्ली से 1500 किलोमीटर दूर बैठे आईपीएस ने मरीजों के लिए आक्सीजन का इंतजाम

कोरोना संक्रमण के समय खाकी का दूसरा रूप सामने आया है। अभी तक खाकी को लेकर लोगों के मन में निगेटिव विचार अधिक थे। लेकिन लॉकडाउन के बाद पुलिस वालों ने लोगों की काफी मदद की।

कोरोना की दूसरी स्ट्रेन में मरीजों को सबसे अधिक आक्सीजन की दिक्कत हो रही है। आक्सीजन नहीं मिलने के कारण लोग मर भी रहे है। दिल्ली के राठी अस्पताल में भी आक्सीजन की कमी हो गई थी। ऐसे में अस्पताल प्रबंधन ने सीएमओ, पीएमओ को ट्वीट करते हुए अपनी स्थिति से अवगत कराया। अस्पताल प्रबंधन ने स्वास्थ्य मंत्री, केजरीवाल को भी ट्वीट किया। जिस वजह से उन्हें 78 मरीजों के इलाज में परेशानी आ रही है।

ओडिशा में तैनात सीनियर आईपीएस आए आगे
अस्पताल के ट्वीट को देखते हुए ओडिशा में तैनात सीनियर आईपीएस अरूण बोथरा आगे आए। उन्होंने अस्पताल को ट्वीट करते हुए कहा कि एक बार फिर से राठी अस्पताल में आक्सीजन की गंभीर समस्या सामने आ रही है। रात को दो बजे तक केवल एक घंटे की आक्सीजन बची है। 68 मरीजों की जान खतरे में है। उन्होंने मदद मांगते हुए कहा कि क्या कोई है जो उनकी मदद कर सकता है।

मदद के लिए आगे आने लगे लोग
अरुण बोथरा के ट्वीट के तुरंत बाद ही कई लोग मदद के लिए आगे आए। इस मामले पर सबसे पहले संज्ञान लिया सीनियर आईएएस और गृहमंत्रालय में सचिव पद पर तैनात संजीव गुप्ता ने। उनकी ओर से कंट्रोल रूम को अलर्ट किया गया। इस बारे में मुंडका और रनहोला के एसएचओ से बात की गई। दोनो अधिकारियों की कोशिश से अस्पताल के लिए 24 टाइप डी आक्सीजन सिलेंडर और 14 टन के एक आक्सीजन ट्रक का इंतजाम किया गया।

अस्पताल प्रबंधन की ओर से किया गया धन्यावाद
मरीजों के लिए आक्सीजन का इंतजाम होने के बाद अस्पताल प्रबंधन की ओर से आईपीएस अरूण बथोरा का धन्यावाद किया। अस्पताल प्रबंधन की ओर से कहा गया सर आपने हमारे ट््वीट को आगे बढ़ाने में मदद की। इसके लिए आपका धन्यावाद। कोरोना को मात देने के लिए समाज के सभी लोगों को इसी तरह से मिलकर चलना होगा। साल 1996 बैच के ओडिशा कैडर आईपीएस आफिसर अरूण बथोरा ने पिछले साल लाकडाउन की शुरुआत में एक बच्चे की जान बचाई थी। बच्चे को ऑटिज्म की बीमारी थी।

बच्चे के लिए करवाया था दूध का इंतजाम
बच्चे की मां नरेंद्र मोदी को ट्वीट करते हुए कहा था कि उनके बच्चे के लिए ऊटनी का दूध चाहिए। लॉकडाउन की वजह से ऊटनी के दूध का इंतजाम नहीं हो पा रहा है। जिसके कारण परेशानी हो रही है। दूध नहीं मिलने के कारण बच्चे की तबियत बिगड़ रही है। यह बात आईपीएस अरूण बोथरा के संज्ञान में आई। उन्होंने राजस्थान के 20 लीटर ऊटनी के दूध का प्रबंध किया। जिससे बच्चे की जान बच पाई।

Stay Connected

259,756FansLike
345,788FollowersFollow
223,456FollowersFollow
33,456FollowersFollow
566,788SubscribersSubscribe

Must Read

Related News