Friday, June 11, 2021
Homeटेक ज्ञानअब भारी सैनीटाइजर की कैन को पीठ पर ढोने की नहीं होगी...

अब भारी सैनीटाइजर की कैन को पीठ पर ढोने की नहीं होगी जरूरत, रोबोट करेगा छिड़काव

कोरोनाकाल में हर जगह को सैनीटाइज (Sanitize) किया जा रहा है। ताकि संक्रमण से बचा जा सके। लेकिन सैनीटाइजेशन (Sanitization) करने वाले श्रमिक भी कई बार खतरनाक केमिकल का शिकार खुद बन जाते है।

गोवा (goa) के डोन बेस्को कॉलेज के फाइनल इयर के तीन छात्रों ने ऐसा रोबोट तैयार किया है। जो मार्केट, ऑफिस और इमारतों में जाकर सैनीटाइजेशन (Sanitization) करेगा। यह रोबोट 400 मीटर दूर से ऑपरेट हो सकता है। अब तीनों छात्र अपने इस रोबोट को पेटेंट कराना चाहते है।

इलेक्ट्रोनिक्स और टेलीकम्यूनिकेशन के छात्र है तीनों

विवेक कामंत ,दृष्टि नाइक, साइल कामंत (sail kamaant) इलेक्ट्रोनिक्स और टेलीकाम्यूनिकेशन(Telecommunication) के छात्र है। विवेक बताते है कि उनके इस प्रोजेक्ट को राज्य विज्ञान एवं तकनीकी विभाग की ओर से पुर्नवास के लिए चयनित किया गया है। इसके अलावा मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत (Pramod Sawant) और स्वास्थ्य मंत्री विश्वजीत राणे  ने छात्रों के प्रोजेक्ट को मंजूर करते हुए स्वास्थ्य सेवाओं में प्रयोग करने के निर्देश दिए।

सोशल मीडिया और अखबारों में फोटो देखकर आया आइडिया

दृष्टि बताती है कि हमने सोशल मीडिया और अखबारों में कई फोटो देखे। जिसमें सैनिटाइजेशन करने वाले श्रमिक अपनी पीठ पर कई लीटर की कैनी लेकर काम कर रहे है। वहीं सैनीटाइजर में खतरनाक केमिकल मिला होने के कारण उनकी हेल्थ पर भी गहरा असर पड़ता है। जिसके बाद उन्होंने ऐसा रोबोट बनाने का निर्णय लिया। जो मार्केट और बिल्डिगों को सैनीटाइज किया जा सके।

नौ माह में तैयार हुआ सैनीटाइज करने वाला रोबोट

विवेक बताते है कि उन्होंने नौ माह के भीतर सैनीटाइज करने वाला रोबोट तैयार कर दिया। इसको तैयार करने में कुल 95 हजार रुपए की लागत आई। इस रोबोट को तैयार करने में उनके शिक्षकों का भी मार्गदर्शन रहा। रोबोट से चलने वाला यह रोबोट एक बार में फुल चार्ज हो सकता है। इसके अलावा यह मार्केट और भीड़भाड़ वाली अन्य जगहों पर छिडक़ाव में प्रयोग किया जाएगा।

Stay Connected

259,756FansLike
345,788FollowersFollow
223,456FollowersFollow
33,456FollowersFollow
566,788SubscribersSubscribe

Must Read

Related News