Saturday, June 12, 2021
Homeएजुकेशनलटाइपराइटर चुराने से हुई थी राजन नायर की बड़ा राजन बनने की...

टाइपराइटर चुराने से हुई थी राजन नायर की बड़ा राजन बनने की शुरुआत, दाउद इब्राहिम के लिए करने लगा काम

बड़ा राजन मुंबई अंडरवल्र्ड का डॉन, जिसने अपनी जुर्म की दुनिया की शुरुआत एक टाइपराइटर चुराने से की थी। इसके लिए उसको सात साल की सजा हुई थी। इसके बाद तो बड़ा राजन ने पीछे मुडक़र नहीं देखा।

बड़ा राजन का असली नाम राजन नायर था। वह दर्जी का काम करता था। उसकी एक गर्लफ्रैंड थी। अब गर्लफ्रैंड की जरूरतों को पूरा करने के लिए उसने अपराध की दुनिया में कदम रख दिया। सबसे पहले राजन नायर उर्फ बड़ा राजन ने टाइपराइटर चुराया। अब टाइपराइटर चुराते हुए वह पकड़ा गया। इस चोरी के लिए उसको सात साल की सजा हुई। जब जेल से बाहर निकला तो पूरी दुनिया बदल गई थी। दुनिया क्या बदल गई थी। उसने दुनिया को देखने का अपना नजरिया बदल लिया था।

25 से 30 रुपए कमाने वाला अब करोड़ों में खेलने लगा
जब बड़ा राजन दर्जी का काम करता था तो वह प्रतिदिन 25 से 30 रुपए ही कमा पता था। लेकिन अपराध की दुनिया में कदम रखने के लिए वह करोड़ों में खेलने लगा। पैसे का चस्का ऐसा लगा कि वह दाउद इब्राहिम के लिए काम करने लगा। जेल से निकलने के बाद बड़ा राजन ने अपनी एक गैंग तैयार की। इस गैंग का नाम रखा गोल्डन गैंग।

दाउद इब्राहिम के लिए करने लगा काम
1970-80 के दशक में बड़ा राजन का मुंबई में सिक्का चलता था। वह दाउद इब्राहिम के लिए काम करने लगा। बड़ा राजन मुंबई में दाउद के लिए हत्या, किडनैपिंग, फिरौती जैसे काम करने लगा। बड़ा राजन के साथ काम करने पर दाउद इब्राहिम की ताकत में भी इजाफा हुआ। कहा जाता है कि दोनों मिलकर हाजी मस्तान और करीम लाला को भी टक्कर देने लगा। कहा जाता है कि बड़ा राजन साथ न होता तो दाउद कभी मुंबई अंडरवल्र्ड पर कब्जा नहीं कर पाता।

छोटा राजन को अंडरवल्र्ड की दुनिया में लाया बड़ा राजन
छोटा राजन को अंडरवल्र्ड की दुनिया में लाने वाला ही बड़ा राजन था। कहा जाता है कि दोनों मुंबई में टिकट ब्लैक करने का काम करते थे। एक साथ काम करने की वजह से दोनों अच्छी दोस्ती हो गई। सदाशिव निखलजे को लोग छोटा राजन कहने लगे। छोटा राजन बड़े राजन के काम में सहायता करता था।

गर्लफ्रैं ड की वजह से दोनों में हुआ दुश्मनी
बताया जाता है कि अब्दुल कुंजू को छोटा राजन ने गैंग में भर्ती कराया था। कुछ समय बाद अब्दुल कुजु ने बड़ा नायर की गर्लफ्रैंड से शादी कर ली। जिसके बाद दोनों की दोस्ती दुश्मनी में बदल गई। साल 1982 में पठान भाईयों ने अब्दुल कुंजू की सहायता से बड़े राजन की हत्या कर दी।

Stay Connected

259,756FansLike
345,788FollowersFollow
223,456FollowersFollow
33,456FollowersFollow
566,788SubscribersSubscribe

Must Read

Related News